मां ब्रह्मचारिणी की आरती। Maa Brahmacharini ki Aarti। Devotional

जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता। जय चतुरानन प्रिय सुख दाता। ब्रह्मा जी के मन भाती हो। ज्ञान सभी को सिखलाती हो। ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा। जिसको जपे सकल संसारा। जय गायत्री वेद की माता। जो मन निस दिन तुम्हें ध्याता। कमी कोई रहने न पाए। …

Read moreमां ब्रह्मचारिणी की आरती। Maa Brahmacharini ki Aarti। Devotional

महागौरी माता की आरती। Maha Gauri Mata ki Aarti। Devotional

जय महागौरी जगत की माया। जया उमा भवानी जय महामाया।। हरिद्वार कनखल के पासा। महागौरी तेरा वहां निवासा।। चंद्रकली और ममता अंबे। जय शक्ति जय जय मां जगदंबे।। भीमा देवी विमला माता। कौशिकी देवी जग विख्याता।। हिमाचल के घर गौरी रूप तेरा। महाकाली दुर्गा है …

Read moreमहागौरी माता की आरती। Maha Gauri Mata ki Aarti। Devotional

मां सिद्धिदात्री की आरती। Maa Siddhidatri ki Aarti। Devotional

जय सिद्धिदात्री तू सिद्धि की दातातू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता,तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धितेरे नाम से मन की होती है शुद्धिकठिन काम सिद्ध कराती हो तुमहाथ सेवक के सर धरती हो तुम,तेरी पूजा में न कोई विधि हैतू जगदंबे दाती …

Read moreमां सिद्धिदात्री की आरती। Maa Siddhidatri ki Aarti। Devotional

महावीर जी की आरती। Mahavir Ji ki Aarti। Devotional

जय महावीर प्रभो, स्वामी जय महावीर प्रभो।कुंडलपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभो॥ ॥ ॐ जय…..॥ सिद्धारथ घर जन्मे, वैभव था भारी, स्वामी वैभव था भारी।बाल ब्रह्मचारी व्रत पाल्यौ तपधारी ॥ ॐ जय…..॥ आतम ज्ञान विरागी, सम दृष्टि धारी।माया मोह विनाशक, ज्ञान ज्योति जारी ॥ ॐ जय…..॥ जग …

Read moreमहावीर जी की आरती। Mahavir Ji ki Aarti। Devotional

हनुमान जी की आरती। Hanuman Ji ki Aarti। Devotional

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।। अंजनि पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई।दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारी सिया सुध लाए। लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार …

Read moreहनुमान जी की आरती। Hanuman Ji ki Aarti। Devotional

श्री परशराम की आरती। Shree Parshuram Ji ki Aarti। Devotional

शौर्य तेज बल-बुद्ध‍ि धाम की॥ रेणुकासुत जमदग्नि के नंदन।कौशलेश पूजित भृगु चंदन॥ अज अनंत प्रभु पूर्णकाम की।आरती कीजे श्री परशुराम की॥1॥ नारायण अवतार सुहावन।प्रगट भए महि भार उतारन॥ क्रोध कुंज भव भय विराम की।आरती कीजे श्री परशुराम की॥2॥ परशु चाप शर कर में राजे।ब्रह्मसूत्र गल …

Read moreश्री परशराम की आरती। Shree Parshuram Ji ki Aarti। Devotional