जैक और जादुई बीन। Jack aur Jadui Beans। Cartoon Story in Hindi

0 Shares

एक गांव में एक गरीब विधवा अपने बेटे के साथ रहती थे। उसके बेटे का नाम जैक था।

जैक कुछ काम नहीं करता था वह बहुत आलसी था।

उनके पास एक गाय थी जिस पर इन दोनों का गुजारा हो रहा था।

जैक हर रोज उस गाय को चराने ले जाता था।

दिन गुजर जाते रोज-रोज गाय चराने से परेशान होकर एक दिन वह गाय को बेचने की सोचता। यह सोचकर वह बाजार की ओर चल पड़ता है।

बाजार जाते वक्त बीच में एक अजीब बूढ़ा आदमी मिलता है।

उस बूढ़े आदमी ने जैक कि तरफ देखा और जैक से कहा ” मेरे बच्चे अगर तुम मुझे तुम्हारी गाय दोगे तो मैं तुम्हें उसके बदले काफी कीमती चीज दूंगा। “

जैक यह सुनकर काफी खुश हुआ।

बूढ़े आदमी ने जैक को अपनी जेब से 5 बीन्स अपनी जेब से निकाल कर दिए।

जब बूढ़े आदमी ने जैक को बींस दिए तब जैक बींस देख कर चौक गया उसने सोचा इतनी बड़ी गाय की सिर्फ इतनी छोटी सी कीमत उसने वह बींस लेने से इंकार कर दिया।

बूढ़ा आदमी नहीं माना और उसने कहा यह जादुई बींस है। उसने बताया कि अगर वह इन बींस को खुले मैदान में ऐसे ही फेंक दें तो यह बींस बहुत बड़े पेड़ का रूप ले लेती हैं।

जैक को पहले उस पर विश्वास नहीं हुआ। उस बूढ़े इंसान ने जैक से कहा ” तुम एक अच्छे और होशियार लड़के लग रहे हो ये जादुई बींस ले लो तुमने अफसोस नहीं होगा मुझ पर यकीन करो “

जैक ने उस बूढ़े आदमी पर विश्वास किया और अपने गाए उसे दे दी।

जैक खुशी-खुशी अपने घर गया और उसने अपनी मां को गाय बेचने की बात बताई।

जैक की मां ने जब गाय बेचने की बात सुनी तो वह गुस्सा हो गए और उसने वह सारे बींस खिड़की के बाहर फेंक दिए मां अब अपने गुजारे को लेकर चिंतित हो गई थी।

मां ने बड़े कठोरता से कहा ” तुम अपने कमरे में रहोगे जब तक मैं बाहर आने ना बोलूं और हां आज तुम्हें कोई खाना नहीं मिलेगा। “

सुबह जब जैक सो कर उठा तो जैक ने अपनी खिड़की के बाहर देखा तो वह हैरान हो गया। उसने देखा कि एक पौधा बड़ी तेजी से बढ़ रहा है।

वह उस जादुई बींस का पौधा था जैक ने खिड़की से कूदकर उस विशाल पेड़ पर छलांग मार उस पर चढ़ना शुरू किया।

उस पेड़ के पत्तों को सीढ़ियों की तरह इस्तेमाल कर चढ़ने लगा। कुछ देर चढ़ने के बाद उसे एक बड़ा सा घर दिखाई पड़ा वह उस घर की तरफ बढ़ा और उसने उस घर का दरवाजा खटखटाया।

एक विशाल औरत ने दरवाजा खोला और जैक की तरफ देखा जैक विशाल औरत को देखकर डर गया पर वहां से नहीं भागा। विशाल औरत ने जैक को देखा और पूछा ” क्या हुआ? “

चेक घबराते हुए उस विशाल औरत से कहा ” आपके पास खाने के लिए कुछ मिलेगा। “

उस विशाल औरत ने बड़ी विनम्रता से कहा ” हां खाना तो मिलेगा पर तुम्हें मेरे पति के आने से पहले यहां से जाना होगा नहीं तो वह तुम्हें खा जाएगा उसे छोटे बच्चे बहुत पसंद है वह उन्हें खा जाता है। “

जोक बहुत डरा हुआ था और उसे बहुत जोर से भूख भी लगी थी तभी उसने देखा की टेबल पर कुछ खाना रखा हुआ था।

जैसे ही वो टेबल पर रखा खाना खाने जा रहा था तभी अचानक विशाल औरत भागते हुए जैक पास आई और उसने जैक से कहा ” तुम जल्दी जाकर उस ओवन में छिप जाओ।

उस विशाल औरत का पति घर पहुंचता है और कहता है ” मुझे बच्चे की खुशबू आ रही है। क्या यहां कोई बच्चा है ? “

विशाल औरत ” नहीं, क्या कह रहे हो शायद आपको उस मास की याद आ रही है जो मैंने कल बिल्ली को खिलाया था

विशाल औरत के पति ने खाना मंगवाया खाना हो जाने के बाद वह राक्षस सोने के सिक्के गिनने लगा यह सब जैक ओवन में से छिप कर देख रहा था।

कुछ देर बाद सिक्के गिनते गिनते विशाल आदमी वही सो गया। जैक ओवन में से बिना आवाज के बाहर आता है, टेबल पर चढ़ता है और वह सिक्के की बैग लेकर वहां से भाग जाता है।

जैक दौड़ता हुआ बीन के पेड़ के पास आता है और सीने के सिक्के से भरे बैग को बीन के पेड़ से नीचे फेंकता है और खुद भी बीन के पेड़ से नीचे उतर जाता है।

उसने सोने से भरे बैग को उठाया और दौड़ते हुए घर के अंदर गया। जैक की मां ने इतने सारे सोने को एक साथ देखा वह बहुत खुश हो गई।

उस दिन के बाद वह कभी गरीब नहीं रहे लेकिन कुछ दिनों बाद सारा सोना खत्म हो गया।

जब जैक के पास और कोई रास्ता नहीं था तब जैक ने फिर से बीन के पेड़ पर चढ़कर उस घर में जा पहुंच।

जब जैक उस बड़े से घर में दोबारा खटखटाया तब दुबारा उस विशाल औरत ने दरवाजा खोला और जैक से कहा ” पिछली बार जब तुम यहां आए थे तो हमारा एक सोने का बैग चोरी हो गया था। “

इसके बावजूद भी उसने जैक को प्यार से अंदर बुलाया।

थोड़ी देर में राक्षस घर पहुंचा खाना हो जाने पर राक्षस में मुर्गे लाने को कहा जब वह मुर्गी लेकर आए तब उस राक्षस ने उस मुर्गी को अंडा देने को कहा।

तभी उस मुर्गी ने सोने के अंडे दिए। इस बार दुबारा जैक ये सब ओवन में से देख रहा था।

राक्षस के सोने के बाद जैक ओवन में से बाहर आया उसने मुर्गी को उठाया और नीचे की ओर दौड़ा। सोने की अंडे की वजह से जैक और उसकी मां फिर से अमीर हो गए।

कुछ समय बाद जैक ने अपनी किस्मत को आजमाने की सूची बीन के उस पेड़ पर जाकर वह अब राक्षस के घर में छुपकर घुस गया।

इस बार जैक अब बड़े से मटके में छिप गया।

विशाल औरत को पता चल जाता है कि इस बार जैक दुबारा उसके घर आया है और वो अपने पति से कहती है ” अगर कोई बच्चा है तो वो ओवन में होगा। “

ये कह कर दोनो जैक को पूरे घर में ढूंढने लगते है पर जैक कहीं नहीं मिलता।

राक्षस और उसकी पत्नी को लगता है कि जैक इस बार आया ही नहीं। राक्षस अपनी पत्नी से खाना मंगवाया है।

राक्षस खाना खाने के बाद सोने की वीणा टेबल पर रखा और उसे बजने को कहा। वीना अपने आप बजता देख जैक के मनन में और लालच पैदा हो गई।

इस बार जैक को वीणा किसी भी हालत में हासिल करनी थी।

राक्षस वीणा की आवाज सुनते ही सोने लगता है।

राक्षस के सोने के बाद जैक राक्षस के घुटने का सहारा ले कर वो टेबल पर चढ जाता है और वीणा को उठता है।

जैक जैसे ही वीणा को हाथ लगता है वीणा अपने आप जोर जोर से बजने लगती है और राक्षस उठ जाता है।

राक्षस जैसे ही उठता है जैक उसकी नज़रों के सामने खड़ी होता है। राक्षस अब जैक को पकड़ने की कोशिश करता है। पर जैक राक्षस के घर से भाग निकलने मै कामयाब हो जाता है।

राक्षस अब भी जैक का पीछा नहीं छोड़ता और वो जैक के पीछे पीछे भागने लगता है। जैक बीन के पेड़ से नीचे उतर जाता है और पेड़ काटने लगता है। दूसरी ओर राक्षस अब भी पेड़ पर लटका हुआ था।

पेड़ काट कर जैक अपने घर के अंदर भाग जाता है। दूसरी तरफ राक्षस अब भी बीन के पेड़ से नीचे उतर रहा होता है।

जैक के पेड़ काटते ही राक्षस बीन के पेड़ के नीचे दब जाता है।

अब जैक और उसकी मां राक्षस से सुरक्षित हो जाते है।

जैक अपनी मां से उस राक्षस और जादुई बीन में सारी बात बताता है और कहता ” मुझे माफ़ कर दो मां, मैंने जो किया को गलत था। मै आपको वचन देता हूं, मै दुबारा गलत काम नहीं करूंगा और मेहनत से पैसे गुजारा करूंगा। “

उसके बाद जैक ने जो कुछ भी कमाया वो अपनी मेहनत से कमाया और अपनी मां का दिल जीत लिया।

सीख:- चोरी करना गलत है, मेहनत की कमाई में ही असली सुख

0 Shares
About Devashish Markam

Hi I am Devashish Markam and I'm the co-founder of hindistoryhub.inand we can assure you that we will keep you updated with the best Hindi stories out there.Until then Goodbye.

Leave a Reply

0 Shares
Copy link